Home » Blog » परमाणु बम के बारे में कुछ रोचक तथ्य | परमाणु बम क्या है?

परमाणु बम के बारे में कुछ रोचक तथ्य | परमाणु बम क्या है?

परमाणु बम
परमाणु बम

रूस-यूक्रेन विवाद में रूस ने परमाणु हमले की धमकी दी है। परमाणु बम के विनाशकारी प्रभावों से तो हम सब परिचित तो है ही, यहां हम बात करते हैं इससे जुड़ी कुछ रोचक बातों की। रूस के साथ-साथ अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, भारत और पाकिस्तान के अलावा कुछ और देशों के पास परमाणु बम है।

किस देश के पास कितने परमाणु बम है?

सबसे अधिक परमाणु बम रूस के पास ही है। रूस के पास 5977 परमाणु बम है। इसके बाद दूसरे स्थान पर अमेरिका है जिसके पास 5428 परमाणु बम होने की खबर है। वही चीन 350 तथा फ्रांस 290 परमाणु बम रखे हुई है । ब्रिटेन के पास 225 परमाणु बम है। भारत से ज्यादा पाकिस्तान के पास परमाणु बम है। भारत के पास 160 जबकि पाकिस्तान 165 परमाणु बम रखे हुए है।इसराइल और उत्तर कोरिया के पास क्रमशः 90 और 20 परमाणु मिसाइलें हैं।

कितने तरह के होते हैं परमाणु बम ?

परमाणु बम के दो प्रकार है। पहला फिशन बम और दूसरा थर्मोन्यूक्लीयर बम जिसे आमतौर हाइड्रोजन बम भी कहा जाता है।फिशन बम में एक न्यूट्रॉन के एटम से टकराने एटम दो टुकड़ों में बंट जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान भारी मात्रा में उर्जा और रोशनी पैदा होती है।

जबकि हाइड्रोजन बम में न्यीक्लियर फ्यूशन के कारण बहुत ही ऊंचे तापमान पर हाइड्रोजन के आइसोटोप आपस मे मिल कर हीलियम बन जाते हैं। जिसके कारण भारी मात्रा में उर्जा और रोशनी उत्पन्न होती है।

परमाणु बम का प्रयोग अनेक तरीके से विनाशकारी सिद्ध होता है इसलिए इसके इस्तेमाल का निर्णय केवल और केवल राष्ट्राध्यक्ष के हाथों में ही होता है। इसे लेकर हर देशों के अलग-अलग तरीके हैं। आइए, हम चर्चा करते हैं कि किस देश में परमाणु मिसाइल के इस्तेमाल करने के निर्णय को लेकर कौन-कौन से नियम है।

क्या होता है न्यूक्लियर ब्रीफ़केस ?

भारत, अमेरिका ,रूस, ब्रिटेन सहित सभी परमाणु संपन्न देशों के राष्ट्राध्यक्ष के साथ जब उनके सुरक्षा कर्मी चलते हैं तो उनमें एक के हाथ में ब्रीफ़केस दिखाई देता है। इस में परमाणु हथियारों के प्रयोग का कोड होता है। इस ब्रीफकेस को ही न्यूक्लियर ब्रीफ़केस कहा जाता है। इसमें कोड के साथ-साथ परमाणु हथियारों का विवरण, उसके मारक क्षमता का विवरण भी होता है। यह विवरण ग्राफिक्स में होता है। इस ब्रीफ़केस के जरिये राष्ट्राध्यक्ष आपातकाल में अपने चुनिंदा अधिकारी से बात भी कर सकते हैं तथा दुश्मन देश पर परमाणु हथियार के इस्तेमाल का आदेश भी दे सकते हैं। यह ब्रीफ़केस इस लिए हमेशा उनके नजदीक रहता है क्योंकि आपातकाल में जब निर्णय लेना हो तो उसमें देर न हो सके।

‘लेटर ऑफ़ लास्ट रिज़ॉर्ट’ क्या होता है?

इंग्लैंड में जब-जब प्रधानमंत्री बदलता है तब नया प्रधानमंत्री अपने हाथों से परमाणु मिसाइलों वाली चार पनडुब्बियों को लेटर लिखता है। इसे ‘लेटर ऑफ़ लास्ट रिज़ॉर्ट’ कहा जाता है जिसे पनडुब्बी के तिजोरी में रख दिया जाता है। वहाँ के प्रोटोकॉल के अनुसार अगर किसी हमले में ब्रिटेन बर्बाद हो जाए तो इस परिस्थिति में ही इस लेटर को बाहर निकाल कर पढ़ाना होता है। जब कोई नए नेता प्रधानमंत्री बनते हैं तो पूर्व के प्रधानमंत्री द्वारा लिखे लेटर को बिना पढ़े ही बर्बाद करना होता है।

अमेरिका में पेंटागन वॉर रूम से निर्णय लेने का है प्रोटोकॉल

अगर अमेरिका किसी देश पर परमाणु मिसाइल से हमला करना चाहता है तो उसे पेंटागन वॉर रूम में राष्ट्रपति के इंतजार करना होगा। आदेश आने के बाद ही इन हथियारों का इस्तेमाल हो सकता है।

अमेरिका के राष्ट्रपति को एक खास तरीके से मिसाइल लॉन्च ऑफ़िसर को आदेश देना होता है। उन्हें एक बिस्कुटनुमा प्लास्टिक कार्ड के जरिए ही आदेश देने होंगे। यहां का राष्ट्रपति को इस बिस्कुटनुमा कार्ड को अपने साथ रखना होता है।

रूस में न्यूक्लियर ब्रीफ़केस के जरिए आदेश देने का है प्रोटोकॉल

रूस के राष्ट्रपति के पास न्यूक्लियर ब्रीफ़केस होता है जिसमें परमाणु मिसाइलों का कोड होता है। यह ब्रीफ़केस राष्ट्रपति के पास हमेशा होता है। यहां तक की जब वो सोते हैं तब भी वो ब्रीफ़केस उनसे 10-20 मीटर के दायरे में ही होता है।

अगर किसी देश ने रूस पर आक्रमण कर दिया तो इस ब्रीफ़केस का अलर्ट अलार्म बजने लगता है और फ्लैशलाइट जल जाती हैं। ऐसी इसी स्थिति में राष्ट्रपति इसी ब्रीफ़केस के जरिए प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री से संवाद कर सकते हैं।

हालांकि इस तरह का एक ब्रीफ़केस रूसी प्रधानमंत्री के पास होता है और रूसी रक्षा मंत्री के पास भी होता हैं। प्रोटोकॉल के मुताबिक परमाणु हमले का आदेश केवल राष्ट्रपति ही दे सकते है लेकिन प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री इस के जरिए राष्ट्रपति से संवाद कर सकते है तथा उनके निर्देशों को समझ सकते हैं।

परमाणु बम से बचने का उपाय क्या है ?

यदि परमाणु बम का विस्फोट होता है और आप बाहर हैं तो किसी भी चीज के पीछे विस्फोट होते ही कवर लें जो सुरक्षा प्रदान कर सकता है। त्वचा को गर्मी और उड़ने वाले मलबे से बचाने के लिए लेट जाएं। हो सके तो अपनी आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें। यदि आप किसी वाहन में हैं, तो वाहन से उतर कर उसके नीचे घुस जाएँ >

Learn More

Cartoonist Irfan

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>