Home » Blog » Russia-Ukraine War: अमेरिका ने दिया यूक्रेन को झटका

Russia-Ukraine War: अमेरिका ने दिया यूक्रेन को झटका

अमेरिका ने दिया यूक्रेन को झटका
अमेरिका ने दिया यूक्रेन को झटका

Thinkerbabu न्यूज़ डेस्क द्वारा
06 मार्च 2022

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन (Russia-Ukraine War) को नो-फ्लाई ज़ोन बनाने की अपनी मांग फिर से दोहराई है। अबकी बार उन्होंने अपने वीडियो सन्देश में अमेरिकी कांग्रेस के सभी सदस्यों से इस मुद्दे पर साथ देने की अपील की है।

अमेरिकी कांग्रेस के सभी सदस्यों को वीडियो लिंक के जरिए सम्बोधित करते हुए उन्होंने रूस से तेल खरीदने पर प्रतिबंध लगाने तथा रूसी फाइटर जेट्स देने की अपील भी किया है। उन्होंने कहा कि अगर इन तीन मुद्दों पर यूक्रेन को सहयोग मिल जाता है तो रूस से मुक़ाबला करने के लिए यह कारगर कदम हो सकता है। रूस से तेल खरीदने पर प्रतिबंध से वह दवाब महसूस कर सकता है। यूक्रेन के पायलट रूसी फाइटर जेट्स को चलाना बखूबी जानते हैं।

नो-फ्लाई जोन बनाने से अमेरिका ने किया इनकार

अमेरिका ने स्पष्ट रूप से यूक्रेन(Russia-Ukraine War)के इन मांगों को खारिज कर दिया है। यूक्रेन को नो-फ़्लाई ज़ोन घोषित करने की उनकी मांग को खारिज करते हुए अमेरिकी सीनेट ने कहा है कि इस निर्णय से नेटो देशों और रूस के बीच टकराव बढ़ सकती है। कोई भी ऐसा निर्णय लेने से नाटो देश परहेज कर रहे हैं जिससे उन देशों का रूस से सीधे लड़ाई की सम्भावना बन जाए। नाटो देशों का अभी रूस के साथ जो सीमित तनाव है वह सैन्य लड़ाई में बदल सकती है।

नो-फ्लाई जोन उस इलाके को कहते हैं जहां किसी अनधिकृत विमान को उड़ने की इजाजत नहीं होती। आमतौर पर यह इलाका सैन्‍य ताकतें तय करती हैं। युद्ध या संकट के समय ऐसे जोन बनाए जाते हैं।

क्या होता है नो-फ्लाई जोन ?

नो फ्लाई जोन से तात्पर्य यह है कि किसी तय क्षेत्र के आकाश में किसी तरह के विमान को ऑपरेट नहीं करना। युद्ध या संकट के समय किसी खास रणनीति के तहत इस तरह के जोन बनाए जाते हैं जिस पर केवल सेना का ही नियंत्रण रहता है।

यूक्रेन नो-फ्लाई जोन घोषित करवाना क्यों चाहता है?

यूक्रेन(Russia-Ukraine War)के संदर्भ में इसका अर्थ यह भी होगा कि नाटो पायलट्स रूसी एयरक्राफ्ट्स को उड़ा सकते हैं। इसके लिए नाटो को रीफ्यूलिंग टैंकर्स और इलेक्‍ट्रॉनिक-सर्विलांस एयरक्राफ्ट की आवश्यकता पड़ेगी। इसके लिए यह जरूरी होगा कि रूस और बेलारूस में जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइलों को नष्‍ट किया जाए। अगर रूस और बेलारूस के धरती पर तैनात रूसी मिसाइल को नाटो देश नष्ट करते हैं तो रूस के साथ युद्ध की स्थिति बन जाएगी।

अमेरिकी सीनेट ने यूक्रेन की अन्य दो मांगो को भी ठुकराया

अमेरिका सीनेट ने यूक्रेन को नो फ्लाई जोन घोषित करने संबंधी मांगो को नामंजूर करने के साथ-साथ उनके अन्य दो मांगों को भी ठुकरा दिया है। ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन को मानवीय मदद देने एवं रूस से तेल खरीदने पर रोक लगाने संबंधित मांगो को भी ठुकरा दिया है। सीनेट के सदस्यों ने कहा है कि रूस से तेल खरीदने पर प्रतिबंध से तेल की कीमतों में बेतरतीब उछाल की संभावना बन सकती है इसलिए यह निर्णय लेना ठीक नहीं होगा। तथा यूक्रेन को मानवीय मदद को रूस सीधे हस्तक्षेप की नज़र से देख सकता है। इसलिए यह मदद भी करना सही साबित नहीं हो सकता है।

Must Read

Pawan Toon Cartoon

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>