Home » vishwas shayari

vishwas shayari

पत्थर पर शायरी

मुहब्बत पर शायरी

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दोना जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जायेबशीर बदर और भी दुख हैं ज़माने में मुहब्बत के सिवाराहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवाफ़ैज़ अहमद फ़ैज़ रंजिश ही सही दिल ह...