Home » samundar par shairi

samundar par shairi

समुंद्र पर शायरी

समुंद्र पर शायरी

ये समुंद्र ही इजाज़त नहीं देता वर्नामैंने पानी पे तेरे नक़्श बना देने थेअहसन मुनीर۔ तुम समुंद्र की बात करते होलोग आँखों में डूब जाते हैं आँखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखाकश्ती के मुसाफ़िर ने समुं...