nari kahani

नेहा कथूरिया

पिता के कंधे पर बसता बच्चों के सुख का संसार

नेहा कथूरिया ईश्वर के बाद इस धरती में जो पालन हार है वो हमारे माता पिता ही है। ईश्वर को तो हमने देखा नहीं है लेकिन पग पग में उनकी उपस्थिति को महसूस किया है। माता पिता से ज्यादा हमारा इस दुनिया में कोई भी सगा मित्र या हमदर्द नहीं है चाहे कितने ही दोस्त …

पिता के कंधे पर बसता बच्चों के सुख का संसार Read More »

श्रद्धा पडगांवकर

हौसलों की आकाशगंगा : श्रद्धा पडगांवकर

आज हम एक ऐसी संघर्ष की कहानी सुनाने जा रहे हैं जो आप के रोंगटे खड़े कर सकती है। मुंबई में रहने वाली श्रद्धा पडगांवकर की कहानी साहस और जुनून की जीत की कहानी है जो निस्संदेह आज हज़ारों लड़कियों को अपने लिए जीवन जीने के लिए प्रेरित कर सकती है। आज कल के युवा …

हौसलों की आकाशगंगा : श्रद्धा पडगांवकर Read More »

विजया रामचंद्रन

चेन्नई की विजया रामचंद्रन की कहानी

प्रायः समाज में ऑटिज़्म की बीमारी से पीड़ित बच्चों की समस्याओं को उनके ही माँ-बाप के द्वारा अनदेखा कर दिया जाता है। यह सामाजिक विडम्बना ही है कि बच्चों के इन बीमारियों को सामाजिक प्रतिष्ठा से जोर कर देखा जाता है, लोग स्वीकार ही नहीं करते कि बोलने और सुनने की समस्या भी एक बीमारी है और …

चेन्नई की विजया रामचंद्रन की कहानी Read More »

कहानी सोनिया 'कृषा' की

कहानी सोनिया ‘कृषा’ की

पढ़ी-लिखी और आर्थिक तौर पर आत्मनिर्भर महिलाऐं सामाजिक चुनौतियों से लड़ने में सक्षम होती हैं। भले ही उनका जीवन पुरुषों की तरह सहज नहीं हो लेकिन वो कई रूढ़ियों को लांघने में सक्षम होती हैं। राजस्थान की बेटी सोनिया ‘कृषा’ एक चर्चित साहित्यकार हैं।  इन्होंने फिल्म के लिए भी गाने लिखी हैं। साथ ही स्क्रीन …

कहानी सोनिया ‘कृषा’ की Read More »

ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिस्ऑर्डर

12 साल की जिया ने 36 km की दूरी 8 घंटा 40 मिनट में तैरकर पूरी की

ऑटिज़्म स्पेक्ट्रम डिस्ऑर्डर को एक तरह का सोशल बिहेवियर डिस्ऑर्डर माना जाता है।  इस बीमारी से पीड़ित बच्चे में आम बच्चों की तरह समाज में एक दूसरे से मिलनेजुलने, बातचीत करने की आदत नहीं होती है। जिया राय के पिता मदन राय बताते हैं कि जब उनकी बेटी 2 साल की थी तब उन्हें इस …

12 साल की जिया ने 36 km की दूरी 8 घंटा 40 मिनट में तैरकर पूरी की Read More »

आंगन की आकाशगंगा

आंगन की आकाशगंगा

बेटी बोझ नहीं होती, हम ही उसके पैरों में बंधन लगाए रखते हैं।  बेटी को आँगन के दहलीज को लांघने दीजिये वो आकाश गंगा बन उभरेगी, और आप मे घर में अमृत की वर्षा करेगी। वास्तव में जो बेटी आर्थिक तौर पर आत्मनिर्भर बनती है वो घर के लिए मजबूत आधार स्तम्भ बन उभरती है। …

आंगन की आकाशगंगा Read More »