Home » mazahiya shairi

mazahiya shairi

हास्य शायरी

हास्य शायरी

हास्य शायरी हमने कितने धोके में सब जीवन की बर्बादी कीगाल पे इक तिल देख के उनके सारे जिस्म से शादी कीसय्यद ज़मीर जाफ़री इस की बेटी ने उठा रखी है दुनिया सर परख़ैरीयत गुज़री कि अंगूर के बेटा ना हुआआगाह अ...