Home » maafi par shairi

maafi par shairi

माफ़ी पर शायरी

माफ़ी पर शायरी

वो करेंगे मेरा क़सूर माफ़हो चुका, कर चुके ज़रूर माफ़नूह नारवी۔ख़ुदा माफ़ करे ज़िंदगी बनाते हैंमरे गुनाह मुझे आदमी बनाते हैंनोमान शौक़۔माफ़ कीजीए गुस्ताख़ियाँ हमारी हैंलबों पे आपके ये तितलियाँ हमारी है...