Home » love शायरी हिंदी

love शायरी हिंदी

एक सुन्दर कविता

प्रेमिका के लिए एक सुन्दर कविता

दुआए नीम शबी अपने पाकीज़ा जज़्बों को गवाह बना करअब की बार भी ईद का चांद देखकरमैं दुआ माँगूँ अपने और तुम्हारे साथ कीबस तुम इतना करनाकि जब मेरी आँखों का नमकीन पानीमेरी फैली हथेली पर गिरेतो मेरी दुआए नीम...

याद पर शायरी

याद पर शायरी

याद वाबस्ता है जिसे भूल गया ख़लवत मेंतुम तो हर वक़त मेरे साथ रहा करते होइबरार मुजीब याद का दिल के दरीचे से गुज़र कैसे होतेरी तज्सीम मुकम्मल है मेरी आँखों मेंसदफ़ इक़बाल दिल में ज़ौक़-ए-वस्ल-ओ-याद-ए-या...

झील पर शायरी

झील पर शायरी

वो लाला बदन झील में उतरा नहीं वर्नाशोले मुतवातिर इसी पानी से निकलतेमहफ़ूज़ अलरहमान आदिल सामने झील है झील में आसमाँआसमाँ में ये उड़ता हुआ कौन हैफ़ारूक़ शफ़क़ सूख गई जब आँखों में प्यार की नीली झील क़तील...

सनम पर शायरी

सनम पर शायरी

एक काअबा के सनम तोड़े तो क्यानसल-ओ-मिल्लत के सनम-ख़ाने बहुतहबीब अहमद सिद्दीक़ी मरहम तेरे विसाल का लाज़िम है ऐ सनमदिल में लगी है हिज्र की बिरछी की हौल आजसिराज औरंगाबादी सनम-परस्ती करूँ तर्क क्यूँ-कर ए ...

Poet: Saleem Javed

हया पर शायरी

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देनाहसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देनाअकबर इला आबादी हया नहीं है ज़माने की आँख में बाक़ीख़ुदा करे कि जवानी तेरी रहे बेदाग़अल्लामा इक़बाल इशवा भी है शोख़ी भी ...

कागज पर शायरी

कागज पर शायरी

लिख के रख देता हूँ अलफ़ाज़ सभी काग़ज़ परलफ़्ज़ ख़ुद बोल के तासीर बना लेते हैंमुहम्मद मुस्तहसिन जामी कभी मैं ढलता हूँ काग़ज़ पे नक़्श की सूरतमैं लफ़्ज़ बन के किसी की ज़बां में तैरता हूँख़ावर नक़वी हर ल...

मुस्कुराहट पर शायरी

मुस्कुराहट पर शायरी

हमारी मुस्कुराहट पर ना जानादिया तो क़ब्र पर भी जल रहा हैआनिस ए ग़म-ए-ज़िंदगी ना हो नाराज़मुझको आदत है मुस्कुराने कीअबद अलहमेद अदम तुम हँसो तो दिन निकले चुप रहो तो रातें हैंकिस का ग़म कहाँ का ग़म सब फ़...

बदन पर शायरी

बदन पर शायरी

उफ़ वो मरमर से तराशा हुआ शफ़्फ़ाफ़ बदनदेखने वाले उसे ताज-महल कहते हैंक़तील शिफ़ाई किसी कली किसी गुल में किसी चमन में नहींवो रंग है ही नहीं जो तिरे बदन में नहींफ़र्हत एहसास तुझ सा कोई जहान में नाज़ुक ब...

बहार पर शायरी

बहार पर शायरी

मैंने देखा है बहारों में चमन को जलतेहै कोई ख़ाब की ताबीर बताने वालाअहमद फ़राज़ मेरी ज़िंदगी पे ना मुस्कुरा मुझे ज़िंदगी का अलम नहींजिसे तेरे ग़म से हो वास्ता वो ख़िज़ां बहार से कम नहींशकील बद एवनी बहा...

  • 1
  • 2