Home » imtihan shairi

imtihan shairi

कोशिश पर शायरी

कोशिश पर शायरी

कोशिश भी कर उम्मीद भी रख रास्ता भी चुनफिर उस के बाद थोड़ा मुक़द्दर तलाश करनिदा फ़ाज़ली और थोड़ा सा बिखर जाऊं , यही ठानी हैज़िंदगी मैंने अभी हार कहाँ मानी हैहसनैन आकिब आख़िरी कोशिश भी करके देखते हैंफिर...

परिक्षा पर शायरी

परिक्षा पर शायरी

परिक्षा पर शायरी कैसी हैं आज़माईशें कैसा ये इमतिहान हैमेरे जुनूँ के वास्ते हिजर की एक रात बसअफ़ीफ़ सिराज हम तो तेरी कहानी लिख आएतूने लिखा है इमतिहान में क्याज़िया ज़मीर वहशतें इशक़ और मजबूरीक्या किसी ...