Home » husn par shairi

husn par shairi

चेहरे पर शायरी

चेहरे पर शायरी

क्या सितम है कि अब तेरी सूरतग़ौर करने पे याद आती हैजून ईलिया तेरी सूरत से किसी की नहीं मिलती सूरतहम जहां में तेरी तस्वीर लिए फिरते हैंइमाम बख़श नासिख़ अजब तेरी है ए महबूब सूरतनज़र से गिर गए सब ख़ूबसूर...