Home » Hindi Romantic Poetry

Hindi Romantic Poetry

मोहब्बत शायरी

मोहब्बत शायरी

मोहब्बत शायरी उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दोना जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जायेबशीर बदर और भी दुख हैं ज़माने में मुहब्बत के सिवाराहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवाफ़ैज़ अहमद फ़ैज़ रंजि...