Home » Hindi Poetry on Deepak

Hindi Poetry on Deepak

चिराग़ पर शायरी

चिराग़ पर शायरी

जहां रहेगा वहीं रोशनी लुटाएगाकिसी चिराग़ का अपना मकाँ नहीं होतावसीम बरेलवी दया ख़ामोश है लेकिन किसी का दिल तो जलता हैचले आओ जहां तक रोशनी मालूम होती हैनुशूर वाहिदी दिल के फफूले जल उठे सीने के दाग़ सेइ...