Home » haseeb soz

haseeb soz

haseeb soz

हसीब सोज़ की ग़ज़लें

रोज़ कुर्ते ये कलफ़-दार कहाँ से लाऊँ_तेरे मतलब का मै किरदार कहाँ से लाऊँ_दिन निकलता है तो सौ काम निकल आते हैं,ऐ ख़ुदा इतने मददगार_ कहाँ से लाऊँ सर बुलन्दओं के लिये सर भी कटा दूं लेकिनसर फिरों के लिये दस्...