Home » faraz shayari

faraz shayari

डूबने पर शायरी

डूबने पर शायरी

जाने कितने डूबने वाले साहिल पर भी डूब गएप्यारे तूफ़ानों में रह कर इतना भी घबराना कियाख़लीक़ सिद्दीक़ी इस की आँखें हैं कि इक डूबने वाला इंसांदूसरे डूबने वाले को पुकारे जैसेइर्फ़ान सिद्दीक़ी तमाशा देख र...