Home » dard shairi

dard shairi

बेवफ़ाई पर शायरी

बेवफ़ाई पर शायरी

इश्क़-ए-रवां की नहर है और हम हैं दोस्तोउस बेवफ़ा का शहर है और हम हैं दोस्तोमुनीर नियाज़ी۔भूलना था तो ये इक़रार किया ही क्यों थाबेवफ़ा तू ने मुझे प्यार किया ही क्यों थानामालूम۔कौन उठाएगा तुम्हारी ये ख़...

अनाथ और यतीम पर शायरी

अनाथ और यतीम पर शायरी

दीन-ओ-मज़हब बजा सही लेकिनरोने वाला यतीम किस का हैएहसान जाफ़री۔भूके प्यासे मुफ़लिस और यतीम हैं जोनज़रे इनायत उन पर भी कर दे मौलासलीम रज़ा रीवा۔बचा के लाएं किसी भी यतीम बच्चे कोऔर इस के हाथ से तख़लीक़-ए-क...

जुदाई पर शायरी

जुदाई पर शायरी

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख्वाबों में मिलेंजिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलेंअहमद फ़राज़ किस-किस को बताएँगे जुदाई का सबब हमतो मुझसे ख़फ़ा है तो ज़माने के लिए आअहमद फ़राज़ हुआ है तुझसे बिछड़ने के...

ग़म पर शायरी

ग़म पर शायरी

दिल नाउम्मीद तो नहीं नाकाम ही तो हैलंबी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो हैफ़ैज़ अहमद फ़ैज़ कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाबआज तुम याद बे-हिसाब आएफ़ैज़ अहमद फ़ैज़ अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएं कैसेतेरी मर...

ज़िन्दगी पर शायरी

ज़िन्दगी पर शायरी

जो गुज़ारी ना जा सकी हमसेहमने वो ज़िंदगी गुज़ारी हैजून ईलिया ज़िंदगी तू ने मुझे क़ब्र से कम दी है ज़मींपांव फीलाओं तो दीवार में सर लगता हैबशीर बदर होश वालों को ख़बर क्या बे-ख़ुदी क्या चीज़ हैइशक़ कीजि...