Home » dahej shairi

dahej shairi

दहेज़ पर शायरी

दहेज़ पर शायरी

देखी जो घर की ग़ुर्बत तो चुपके से मर गईइक बेटी अपने बाप पे एहसान कर गईनदीम भाभा۔जहेज़ मांग रहे हो ग़रूर-ओ-क़हर के साथमुझे कफ़न भी दिला दो , क़लील ज़हर के साथनामालूम۔कहाँ से आई है लोगो, बताओ रस्म-ए-जहे...