Home » baap par shayari

baap par shayari

पिता पर शायरी

पिता पर शायरी

हमें पढ़ाओ ना रिश्तों की कोई और किताबपढ़ी है बाप के चेहरे की झुर्रियाँ हमनेमेराज आबाद य बेटियां बाप की आँखों में छिपे ख़्वाबको पहचानती हैंऔर कोई दूसरा इस ख़्वाब को पढ़ ले तो बुरा मानती हैंइफ़्तिख़ार आरि...