Home » जिंदगी और मौत की शायरी

जिंदगी और मौत की शायरी

तूफ़ान पर शायरी

तूफ़ान पर शायरी

ख़ुद पर कोई तूफ़ान गुज़र जाने के डर सेमैं बंद हूँ कमरे में बिखर जाने के डर सेहुस्न अज़ीज़ साहिल के सिक्कों से किसे इनकार है लेकिनतूफ़ान से लड़ने में मज़ा और ही कुछ हैआल-ए-अहमद सरवर जिसको तूफ़ाँ से उलझ...

दफ़न पर शायरी

दफ़न पर शायरी

कई लाशें हैं मुझमें दफ़न यानीमैं क़ब्रिस्तान हूँ शुरूआत ही सेतरी पुरारी यहां तो रस्म है ज़िंदों को दफ़न करने कीकिसी भी क़ब्र से मुर्दा कहाँ निकलता हैख़ुरशीद अकबर सात संदूक़ों में भर कर दफ़न कर दो नफ़र...