Home » चिंटू पांडे की शायरी देशभक्ति

चिंटू पांडे की शायरी देशभक्ति

इंक़िलाब शायरी

इंक़िलाब शायरी

कुछ उसूलों का नशा था कुछ मुक़द्दस ख़ाब थेहर ज़माने में शहादत के यही अस्बाब थेहसननईम हम परवरिश लौह-ओ-क़लम करते रहेंगेजो दिल पे गुज़रती है रक़म करते रहेंगेफ़ैज़ अहमद फ़ैज़ हम अमन चाहते हैं मगर ज़ुलम के ...