Home » गुरु पर शायरी

गुरु पर शायरी

टीचर पर शायरी

टीचर पर शायरी

माँ बाप और उस्ताद सब हैं ख़ुदा की रहमतहै रोक-टोक इनकी हक़ में तुम्हारे नेअमतअलताफ़ हुसैन हाली जिनके किरदार से आती हो सदाक़त की महकउनकी तदरीस से पत्थर भी पिघल सकते हैंनामालूम अदब तालीम का जौहर है ,ज़ेव...

गुमनाम शायरी

गुमनाम शायरी

जब छेड़ती हैं उनको गुमनाम आरज़ूऐंवो मुझको देखते हैं मेरी नज़र बचा केअली जव्वाद ज़ैदी वो एक शख़्स कि गुमनाम था ख़ुदाई मेंतुम्हारे नाम के सदक़े में नामवर ठहराहमीद कौसर जमी है गर्द आँखों में कई गुमनाम बर...