Home » इस्लामिक शायरी

इस्लामिक शायरी

आवाज़ पर शायरी

आवाज़ पर शायरी

आवाज़ दे के देख लो, शायद वो मिल ही जायेवर्ना ये उम्र-भर का सफ़र-ए-राएगाँ तो हैमुनीर नियाज़ी लहजा कि जैसे सुबह की ख़ुशबू अज़ान देजी चाहता है मैं तेरीआवाज़ चूम लूंबशीर बदर बोलते रहना क्योंकि तुम्हारी बा...