Home » इमोशनल शायरी

इमोशनल शायरी

इंतज़ार पर शायरी

इंतज़ार पर शायरी

माना कि तेरी दीद के काबिल नहीं हूँ मैंतू मेरा शौक़ देख, मेरा इंतिज़ार देखअल्लामा इक़बाल۔मुंतज़िर किस का हूँ टूटी हुई दहलीज़ पे मैंकौन आएगा यहां कौन है आने वालाअहमद फ़राज़۔शायद तुम आओ मैंने इसी इंतिज़ा...

कारवां पर शायरी

कारवां पर शायरी

ये किस मुक़ाम पे पहुंचा है कारवान वफ़ाहै एक ज़हर सा फैला हुआ फ़िज़ाओं मेंअय्यूब साबिर चला जाता है कारवान-ए-नफ़सना बाँग-ए-दिरा है ना सौत-ए-जरसवहशतध रज़ा अली कलकत्वी अजल ने लूट लिया आके कारवान हयातसुना ...