Home » इन्क़िलाब शायरी

इन्क़िलाब शायरी

इन्क़िलाब शायरी

इन्क़िलाब शायरी

हम अमन चाहते हैं मगर ज़ुलम के ख़िलाफ़गर जंग लाज़िमी है तो फिर जंग ही सहीसाहिर लुधियानवी۔काम है मेरा तग़य्युर नाम है मेरा शबाबमेरा नारा इन्क़िलाब-ओ-इन्क़िलाब-ओ-इन्क़िलाबजोश मलीहाबादी۔और सब भूल गए हर्फ़...