Home » Blog » सलीम जावेद की ग़ज़ल

सलीम जावेद की ग़ज़ल

Read Urdu Poetry on the topic of Saleem Javed ki gazal. You can read famous Urdu Poems, Gazal, and Urdu Sher o Shayari Whatsapp Status. Best and popular Urdu Ghazals and Nazms can be shared with friends. Urdu Tiktok Status Poetry and Facebook Share Urdu Poetry available.

Poet: Saleem Javed
Poet: Saleem Javed

ग़ज़ल

कवि:सलीम जावेद

वहशत से नारसाई से ग़म से फि़राक़ से
इन सब से वास्ता है मिरा इत्तेफा़क़ से

इंसानियत के प्यार के महरो खुलूस के
गा़यब हैं सब चराग़ मिरे घर के ताक़ से

मैं ने विसाल लिख दिया कल आसमान पर
खु़श हो गया है चांद मिरे इश्तियाक़ से

इक रास्ता रुजूअ का है दरमियां मगर
दिल कांप कांप जाता है लफ़्ज़े तलाक़ से

शहरे गुमां में मौत की दस्तक से डर गए
जो लोग जी रहे थे बड़े तुमतुराक़ से

खु़शहाल ज़िंदगी से वो मैहरूम हो गए
मजबूर थे जो लोग दिलों के निफा़क़ से

इक माह रू ने कह दिया जाने वफा़ “सलीम”
ता उम्र शादमां रहे उसके मजा़क़ से
******

हमारी वेबसाइट पे बेहतरीन ग़ज़ल शायरी ,लेख ,कहानियाँ उपलब्ध है।आप अपनी ज़रूरत और पसंद की रचना यहां पढ़ सकते हैं। पढ़िए और दोस्तों के साथ साझा कीजिए

Share This Post
Have your say!
00

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>