Home » Blog » यूक्रेन में रूसी सैनिकों का घुसपैठ

यूक्रेन में रूसी सैनिकों का घुसपैठ

russia ukraine war news
russia ukraine war news

खबर है कि रूसी सैनिक यूक्रेन के दक्षिणी हिस्से में प्रेवश कर गए हैं। यूक्रेन के बॉर्डर गार्ड सर्विस (डीपीएसयू) द्वारा जारी कुछ तस्वीरों से इस बात की पुष्टि भी होती है। जारी तस्वीर में रूस के सैनिक वाहनों को क्राइमिया प्रायद्वीप से दिखाया जा रहा हैं।

भारी गोलाबारी के बीच रूसी सैनिकों ने किया यूक्रेन में प्रवेश

रूसी सैनिक भारी गोलाबारी करते हुए दक्षिण यूक्रेन के हिस्से में घुस चुके है। यूक्रेन द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि रूसी सैनिक देश के पूर्वी और उत्तरी इलाक़े से भी घुसपैठ कर रही है। बेलारूस की सीमा से रूसी सैनिक यूक्रेन के उत्तरी हिस्से में घुसे चुके है तथा यूक्रेन की पूर्वी हिस्से में रूस से सैनिकों ने घुसपैठ की है।

यूक्रेन ने रिटायर सैनिकों को भी लड़ने को कहा

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार यूक्रेन ने इस आपातकाल में अपने रिटायर सैनिकों को भी युद्ध में शामिल होने का आदेश दिया है। इसके उन सैनिकों को भी हथियार दिए जा रहे है।

यूक्रेन के सैन्य हवाई अड्डे पर हमला

यूक्रेन के चुगुएव स्थित सैन्य हवाई अड्डे पर मिसाइल से हमला किया गया है। रूसी सैनिकों की ओर से जारी एक बयान में यूक्रेन के एयर डिफेंस सिस्टम और कुछ सैन्य ढांचों को ध्वस्त करने का दावा किया गया है। इधर यूक्रेन ने भी रूस के 5 लड़ाकू विमान और एक हेलिकॉप्टर नष्ट करने का दावा किया है।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन में सैनिक कार्रवाई की घोषणा के बाद दुनिया भर से प्रतिक्रिया आ रही है। संयुक्त राष्ट्र संघ सहित दुनिया के कई शक्तिशाली देश रूसी हमले के खिलाफ हैं। आइए ! जानते हैं कि इस मसले पर किस देश ने क्या कहा?

1). अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने रूसी सैन्य कार्यवाई की तीखी आलोचना करते हुए इसे रूस का अकारण और अनुचित निर्णय बताया है।

2). संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने भी यूक्रेन के ऊपर रूसी कार्यवाई की आलोचना की है। संयुक्त राष्ट्र ने रूस से मानवता के आधार पर अपने सैनिकों को वापस बुलाने और हमले रोकने की अपील की है। उसने रूस को मानवीय मूल्यों के आधार पर इस हमले को रोकने की बात की है।

3). भारत ने यूक्रेन- रूस विवाद को कम करने की अपील की है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में भारत ने इस तनाव को तत्काल कम करने पर जोर दिया है।

4). नाटो ने रूसी हमला की कड़ी निंदा की है। इसे अंतरराष्ट्रीय क़ानून का उल्लंघन बताया है। नाटो के अनुसार इस युद्ध के बेहद गम्भीर परिणाम भुगतने पर सकते है।

5). ब्रिटेन ने रूस के इस निर्णय की तीखी आलोचना की है। ब्रिटेन ने कहा है कि वह अपने सहयोगी दलों के साथ एकजुट होकर रूस की इस हमले का जवाब देंगे।

Read More

Cartoonist Irfan

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>