Narendra Modi

प्रधानमंत्री का काफिला ब्रिज पर रुके रहने से बवाल | Narendra Modi Update

प्रधानमंत्री(Prime Minister) का काफिला पंजाब के फ़िरोज़पुर के एक ब्रिज पर 20 मिनट तक रुका रहा । भाजपा ने इसे कांग्रेस की जानलेवा साजिश करार दिया ।

आज पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में बहुत बड़ी चूक हुई है जब उनका काफिला पंजाब के फ़िरोज़पुर के एक ब्रिज पर 20 मिनट तक रुका रहा। आगे कुछ ही दूरी पर किसानों का प्रदर्शन चल रहा था जिसके कारण मोदी का काफिला आगे नहीं बढ़ पाया। प्रधानमंत्री का लगातार 20 मिनट तक एक ब्रिज पर रुके रहना वाकई में जोखिम भरा पल था। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार से जबाव तलब किया है। गृह मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया कि पंजाब के फ़िरोज़पुर में सुरक्षा चूक के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) अपने तय कार्यक्रम के मुताबिक चुनावी रैली में नहीं जा सके।

भाजपा (BJP)ने इसे कांग्रेस (Congress) की खूनी साजिश करार दिया

इस घटना के बाद भाजपा और कांग्रेस में आरोप-प्रत्यारोप का दौरा जारी हो गया है।
स्मृति ईरानी ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि कांग्रेस के ख़ूनी इरादे नाकाम रहे। कांग्रेस को मोदी से घृणा है और वो देश के प्रधानमंत्री Narendra Modi के साथ हिसाब करना चाहती है। उन्होंने पंजाब पुलिस पर भी आरोप लगाया कि कांग्रेस साजिश करती रही और पंजाब पुलिस मूक दर्शक बनी रही। पीएम के काफिले को जानबूझकर झूठ बोला गया। जिसके कारण प्रधानमंत्री का काफिले 20 मिनट तक खतरे में रही। कांग्रेस को इसका जवाब देना होगा। स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री जी ने पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी को संदेश दिया है कि मैं ज़िंदा लौट रहा हूं। इस तरह कांग्रेस की खूनी साजिश नाकाम होगा।

Chief Minister of Punjab ने दिया जांच के आदेश

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने इस पूरी घटना के जांच का आदेश दिया है। सवाल यह है कि जिस रूट पर किसानों का प्रदर्शन चल रहा है उधर से ही प्रधानमंत्री Narendra Modi के काफिले को गुजरने का रूट कैसे तय किया गया? Prime Minister के सुरक्षा दस्ते को प्रदर्शन की जानकारी होनी चाहिए थी।

पंजाब के वर्तमान सीएम कौन हैं?

चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के वर्तमान सीएम हैं ।

Prime Minister सबके हैं, उनकी सुरक्षा अहम : कांग्रेस

कांग्रेस ने एक बयान जारी कर कहा है कि प्रधानमंत्री सबके हैं। उनकी सुरक्षा अहम है। पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी ने बयान जारी किया है कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा का पूरा इंतज़ाम था। वो खुद कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आ गए हैं इसलिए ऐतिहातन उनके स्वागत में नहीं जा सकता।

गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने पूरी घटना क्रम पर बयान जारी किया है।

पूरे घटना पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए बताया है कि प्रधानमंत्री को एक रैली में जाने का कार्यक्रम था। फ़िरोजपुर के हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक से क़रीब 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक फ्लाइओवर से गुजर रहा था तब पता चला कि कुछ प्रदर्शनकारियों की वजह से सड़क जाम है। नतीजन काफिला वही रोकना पड़ा। प्रधानमंत्री फ्लाईओवर पर 15 से 20 मिनट तक फँसे रहे।

दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी को हेलीकॉप्टर से आज बठिंडा से हुसैनीवाला जाना था। मौसम खराब होने की वजह से यह फ़ैसला किया गया कि पीएम सड़क मार्ग से ही जाएंगे। कार्यक्रम के बदलाव की खबर डीजीपी पंजाब पुलिस को दी जा चुकी थी। उनकी पुष्टि के बाद ही सड़क मार्ग से काफिला रवाना हुआ। जैसे ही हुसैनीवाला से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक फ़्लाईओवर पर पीएम का काफिला पहुंचा तो बताया गया कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम कर रखी है। नतीजन प्रधानमंत्री फ्लाईओवर पर 15 से 20 मिनट तक फँसे रहे।

गृह मंत्रालय के अंतर्गत क्या क्या आता है?

गृह मंत्रालय के अंतर्गत आंतरिक सुरक्षा, सीमा प्रबंधन, केंद्र-राज्य संबंध, संघ राज्य क्षेत्रों का प्रशासन, केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों का प्रबंधन, आपदा प्रबंधन इत्यादि है।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री कौन है?

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री श्री नित्यानंद राय हैं।

केंद्रीय गृह सचिव कौन है?

केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला हैं। ये 1984 बैच के असम-मेघालय कैडर के आईएएस अधिकारी हैं। केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला को मोदी सरकार ने 2019 में केंद्रीय गृह सचिव के तौर पर नियुक्त किया था ।

Learn More

Leave a Comment

Your email address will not be published.