Home » Blog » हुंडई मामले में भारत ने कोरियाई राजदूत को किया तलब

हुंडई मामले में भारत ने कोरियाई राजदूत को किया तलब

हुंडई मामले में भारत ने कोरियाई राजदूत को किया तलब
हुंडई मामले में भारत ने कोरियाई राजदूत को किया तलब

खबर है कि भारत ने कोरियाई राजदूत को हुंडई मामले में तलब किया है। साथ ही भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री चुंग उई योंग से फोन पर बात कर हुंडई मामले पर आपत्ति जताई है। दरअसल, कोरियाई कम्पनी हुंडई के पाकिस्तान ब्रांच ने अपने सोशल मीडिया पर कश्मीर को लेकर एक पोस्ट किया था जिसपर विवाद बढ़ चुका है। भारत ने इस सोशल मीडिया पोस्ट पर गहरी आपत्ति जताई है।

हुंडई पाकिस्तान ने किया कश्मीर पर पोस्ट

कोरियाई कम्पनी हुंडई के पाकिस्तान (Pakistan)इकाई ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर कश्मीर के बारे में एक ऐसा पोस्ट किया जिससे भारत की भावना आहत हुई है। यह पोस्ट भारत की अखंडता एवं कश्मीर का भारतीय हिस्सा होने वाली भावना को आहत करने वाला है। हालांकि यह पोस्ट पाकिस्तान में कार्यरत हुंडई ऑफिस से की गई थी। इसे लेकर हिंदुस्तान ने गहरी आपत्ति दर्ज की है।

विदेश मंत्री जयशंकर ने ट्वीट कर दी जानकारी

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि उन्होंने दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री से बात कर इस मामले में अपनी आपत्ति प्रकट की है। हालांकि उन्होंने यह भी बताया ही कि यह द्विपक्षीय बातचीत बहुपक्षीय मुद्दों पर पर थी। इसमें कई महत्वपूर्ण मसलों सहित हुंडई के मामले पर भी बात हुई।

दक्षिण कोरिया के राजपूत को भी किया गया तलब

भारत ने हुंडई मामले पर कदम उठाते हुए दक्षिण कोरिया के राजदूत को भी तलब किया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बयान जारी कर कहा है कि हुंडई के इस पोस्ट से भारत की भावना को ठेस पहुंचा है। इसलिए दक्षिण कोरिया के राजदूत को तलब कर अपनी आपत्ति दर्ज कराई गई है। बागची ने कहा है कि भारत में विदेशी कंपनियों के निवेश का स्वागत किया जाता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि विदेशी कंपनियाँ भारत की संप्रभुता और अखडंता पर असत्य औऱ भ्रामक टिप्पणी करते करें। कम्पनियों को इन मसलों पर संयम से काम लेनी चाहिए।

हुंडई मोटर कम्पमी ने किया खेद प्रकट

विवाद बढ़ते देख हुंडई मोटर कंपनी ने बयान जारी करके खेद प्रगट की है और पूरे मामले पर अपनी सफाई दी है। कश्मीर के बारे में भ्रामक तथ्यों वाले इस पोस्ट पर पिछले रविवार 6 फ़रवरी को ही भारत की ओर से आपत्ति दर्ज कराई गई है। दक्षिण कोरिया स्थित सोल में भारत के राजदूत ने हुंडई हेडक्वॉर्टर से इस मामले पर स्पष्टीकरण मांगा था। इसके तुरंत बाद हुंडई ने इस पोस्ट को हटा दिया । इसके अगले दिन भारत के विदेश मंत्रालय की ओर से रिपब्लिक ऑफ कोरिया के राजदूत को समन भेजा गया।

हुंडई मोटर्स ने खेद प्रगट करते हुए कहा है कि कंपनी किसी भी राजनीतिक या धार्मिक मुद्दों पर कोई टिप्पणी नहीं करती है। भारत उसका महत्व पूर्ण साझेदार है।

कौन हैं भारतीय विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर ?

दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफन कॉलेज से स्नातक तथा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में एम. फिल,पीएचडी करने वाले डॉ. एस. जयशंकर इस समय भारत के विदेश मंत्री हैं। इन्हें साल 2019 में पद्म श्री पुरस्कार से नवाजा गया है।

विदेश मंत्री बनने से पूर्व जयशंकर टाटा संस प्राइवेट लिमिटेड में वैश्विक कॉर्पोरेट मामलों के अध्यक्ष पद पर कार्यरत रहे हैं। एस जयशंकर देश में विदेश सचिव और राजदूत जैसे पदों पर भी काम कर चुके हैं। ये 2015-18 तक विदेश सचिव तथा साल 2000 से लेकर 2015 तक कई देशों में भारतीय राजदूत के पदों पर काम किया है। संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन तथा चेक गणराज्य में राजदूत रहे हैं और सिंगापुर में उच्चायुक्त के पद पर कार्यरत रहे हैं।

Pawan Toon Cartoon

Cartoon

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>