Home » Blog » तेल की कीमत आसमान पर : यूक्रेन युद्ध का प्रभाव

तेल की कीमत आसमान पर : यूक्रेन युद्ध का प्रभाव

रूस-यूक्रेन युद्ध
रूस-यूक्रेन युद्ध

रूस-यूक्रेन युद्ध के परिपेक्ष्य में अमेरिका ने एक ऐसा बयान दिया है जिसके कारण वैश्विक बाजार में तेल की कीमत आसमान छूने लगी है। रूस पर दवाब बढ़ाने के लिए यूक्रेन की ओर से लगातार यह अपील की जा रही थी कि पश्चिमी देश रूस से तेल खरीदने पर प्रतिबंध लगा दें। अमेरिका ने यूक्रेन के इस मांग पर विचार करने की स्वीकृति दे दी है। उसने कहा है कि वह रूस से तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने को विचार कर सकता है। इस अमेरिकी बयान के बाद ही तेल की क़ीमत में आसमानी वृद्धि होने लगी हैं। अमेरिकी विदेश मंत्री ऐंटनी ब्लिंकन ने कहा था कि हमारी सरकार आपने सहयोगी राष्ट्रों के साथ मिलकर रूस से तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं।

साल 2008 के बाद से पहली बार तेल की कीमत में इतनी वृद्धि

अमेरिका द्वारा रूस पर तेल खरीदने सम्बंधित प्रतिबंध पर विचार करने की बात कहे जाने के बाद तेल की कीमत में जो बढ़ोतरी हुई है वह पिछले 14 सालों में नहीं हुई है। साल 2008 के बाद कभी भी इतनी बढ़ोतरी नहीं देखी गयी है। अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल की क़ीमत 139 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गई।

यूक्रेन-रूस विवाद के बाद से ही तेज के बाज़ार में असमंजस सा माहौल बन गया है। अब अमेरिका के इस बयान के बाद तो अफरा-तफ़री सा माहौल हो गया है। सोमवार को एशियाई शेयर बाज़ार की मंदी स्पष्ट रूप से देखी जा सकती है। जापान के निक्केई और हॉन्ग-कॉन्ग के हैंग सेंग सूचकांक में तीन प्रतिशत तक की गिरावट आई है। इधर भारतीय शेयर बाज़ार यानि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के सेंसेक्स में लगभग 1500 अंकों की गिरावट आई है।

वैश्विक अर्थव्यवस्था से रूस को अलग-थलग करने पर विचार

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने कहा कि रूस पर कई कठोर प्रतिबंध लगाने का फैसला हो सकता है जिसमे रूसी तेल के आयात पर रोक भी शामिल है। साथ ही उन्होंने यूक्रेन को 10 अरब डॉलर की मदद देने की भी बात कही।
नैन्सी पेलोसी ने स्पष्ट रूप से कहा कि अमेरिका का प्रयास है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था से रूस को अलग-थलग किया जा सके।

रूस पर आर्थिक प्रतिबंध लगाने से क्या प्रभाव पड़ेगा ?

रूस से तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने पर विचार करने संबंधी अमेरिकी बयान के बाद से ही तेल की क़ीमत आसमान छूने लगी है। जिसके कई परिणाम सामने आने शुरू हो गए हैं। बीते सप्ताह ब्रेंट क्रू़ड की क़ीमत 20 फ़ीसदी से ज़्यादा बढ़ गई। अमेरिकी पेट्रोल पंपों पर क़ीमतों में 11 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है जो कि जुलाई 2008 के बाद सबसे ज़्यादा है।

Learn More

Pawan Toon Cartoon

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>