हौसले पर शायरी

हौसले पर शायरी

हमको मिटा सके ये ज़माना में दम नहीं
हमसे ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं
जिगर मुरादाबादी

हज़ार बर्क़ गिरे लाख आँधियाँ उठीं
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं
साहिर लुधियानवी

तो शाहीं है परवाज़ है काम तेरा
तेरे सामने आसमाँ और भी हैं
अल्लामा इक़बाल

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है
बिस्मिल अज़ीमाबादी

जो तूफ़ानों में पलते जा रहे हैं
वही दुनिया बदलते जा रहे हैं
जिगर मुरादाबादी

अब हवाएं ही करेंगी रोशनी का फ़ैसला
जिस दीए में जान होगी वो दिया रह जाएगा
मह्शर बदायूंनी

हम परवरिश लौह-ओ-क़लम करते रहेंगे
जो दिल पे गुज़रती है रक़म करते रहेंगे
फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

हौसले पर शायरी

वक़्त आने दे दिखा देंगे तुझे ऐ आसमां
हम अभी से क्यों बताएं क्या हमारे दिल में है
बिस्मिल अज़ीमाबादी

अपना ज़माना आप बनाते हैं अहल-ए-दिल
हम वो नहीं कि जिनको ज़माना बना गया
जिगर मुरादाबादी

लोग कहते हैं बदलता है ज़माना सबको
मर्द वो हैं जो ज़माने को बदल देते हैं
अकबर इलाहाबादी

नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुंबद पर
तो शाहीं है बसेरा कर पहाड़ों की चट्टानों में
अल्लामा इक़बाल

अभी से पांव के छाले ना देखो
अभी यारो सफ़र की इबतिदा है
एजाज़ रहमानी

साहिल के सिक्कों से किसे इनकार है लेकिन
तूफ़ान से लड़ने में मज़ा और ही कुछ है
आल-ए-अहमद

ये कह के दिल ने मेरे हौसले बढ़ाये हैं
ग़मों की धूप के आगे ख़ुशी के साये हैं
माहिर उल-क़ादरी

संघर्ष हौसला पर शायरी

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहीए
दुष्यंत कुमार

देख ज़िंदाँ से परे रंग-ए-चमन जोश-ए-बहार
रक़्स करना है तो फिर पांव की ज़ंजीर ना देख
मजरूह सुलतानपुरी

तीर खाने की हवस है तो जिगर पैदा कर
सरफ़रोशी की तमन्ना है तो सर पैदा कर
अमीर मीनाई

हार हो जाती है जब मान लिया जाता है
जीत तब होती है जब ठान लिया जाता है
शकील आज़मी

लोग जिस हाल में मरने की दुआ करते हैं
मैंने इस हाल में जीने की क़सम खाई है
अमीर क़ज़लबाश

बढ़के तूफ़ान को आग़ोश में ले-ले अपनी
डूबने वाले तेरे हाथ से साहिल तो गया
अबद अलहमेद अदम

भंवर से लड़ो तुंद लहरों से उलझो
कहाँ तक चलोगे किनारे किनारे
रज़ा हमदानी

हौसले पर शायरी

जहां पहुंच के क़दम डगमगाए हैं सब के
इसी मुक़ाम से अब अपना रास्ता होगा
आबिद अदीब

शह-ज़ोर अपने ज़ोर में गिरता है मिस्ल-ए-बर्क़
वो तिफ़्ल किया गिरेगा जो घुटनों के बल चले
मिर्ज़ा अज़ीम बेग अज़ीम

जलाने वाले जलाते ही हैं चिराग़ आख़िर
ये क्या कहा कि हवा तेज़ है ज़माने की
जमीलध मज़हरी

यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है
हवा की ओट भी लेकर चिराग़ जलता है
मंज़ूर हाश्मी

सियाह-रात नहीं लेती नाम ढलने का
यही तो वक़्त है सूरज तेरे निकलने का
शहरयार

वक़्त की गर्दिशों का ग़म ना करो
हौसले मुश्किलों में पलते हैं
महफ़ूज़ अलरहमान आदिल

सदा एक ही रुख, नहीं नाव चलती
चलो तुम उधर को हवा हो जिधर की
अलताफ़ हुसैन हाली

हौसले पर शायरी

मैं आंधीयों के पास तलाश-ए-सबा में हूँ
तुम मुझसे पूछते हो मेरा हौसला है किया
अदा जाफ़री

आईन-ए-जवाँ मर्दां हक़गोई-ओ-बेबाकी
अल्लाह के शेरों को आती नहीं रूबाही
अल्लामा इक़बाल

उसे गुमाँ है कि मेरी उड़ान कुछ कम है
मुझे यक़ीं है कि ये आसमान कुछ कम है
नफ़स इंबा लोई

मेरे टूटे हौसले के पर निकलते देखकर
उसने दीवारों को अपनी और ऊंचा कर दिया
आदिल मंसूरी

इतने मायूस तो हालात नहीं
लोग किस वास्ते घबराए हैं
जां निसार अख़तर

इन्ही ग़म की घटाओं से ख़ुशी का चांद निकलेगा
अँधेरी रात के पर्दे में दिन की रोशनी भी है
अख़तर शीरानी

वाक़िफ़ कहाँ ज़माना हमारी उड़ान से
वो और थे जो हार गए आसमान से
फ़हीम जोगा पूरी

हौसले पर शायरी

मुसीबत का पहाड़ आख़िर किसी दिन कट ही जाएगा
मुझे सर मार कर तेशे से मर जाना नहीं आता
यगाना चंगेज़ी

मौजों की सियासत से मायूस ना हो फ़ानी
गिर्दाब की हर तह में साहिल नज़र आता है
फ़ानी बदायूंनी

दामन झटक के वादई ग़म से गुज़र गया
उठ उठ के देखती रही गर्द-ए-सफ़र मुझे
अली सरदार जाफ़री

गो आबले हैं पांव में फिर भी ऐ रह रवो
मंज़िल की जुस्तजू है तो जारी रहे सफ़र
नूर क़ुरैशी

हुआ ख़फ़ा थी मगर इतनी संग-ए-दिल भी ना थी
हमें को शम्मा जलाने का हौसला ना हुआ
क़ैसर अलजाफ़री

लज़्ज़त-ए-ग़म तो बख़श दी उसने
हौसले भी अदम दिए होते
अबद अलहमेद अदम

तुंद ई बाद-ए-मुख़ालिफ़ से ना घबरा ऐ उक़ाब
ये तो चलती है तुझे ऊंचा उड़ाने के लिए
सय्यद सादिक़ हुसैन

जिन हौसलों से मेरा जुनूँ मुतमइन ना था
वो हौसले ज़माने के मयार हो गए
अली जव्वाद ज़ैदी

बना लेता है मौज ख़ून-ए-दिल से इक चमन अपना
वो पाबंद-ए-क़फ़स जो फ़ितरतन आज़ाद होता है
असग़र गोंडवी

Leave a Comment

Your email address will not be published.