Home » Blog » हे राम’ इतना क्यों गिर जाते हैं राजनेता!

हे राम’ इतना क्यों गिर जाते हैं राजनेता!

महात्मा गांधी/Mahatma Gandhi
महात्मा गांधी/Mahatma Gandhi

स्वामी कालीचरण महाराज ने महात्मा गांधी के लिए अपमानजनक टिप्पणी की है

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के रावणभाठा मैदान में आयोजित दो दिवसीय ‘धर्म संसद’ में हिन्दू धार्मिक नेता कालीचरण महाराज ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की है। धर्म संसद के आखिरी दिन स्वामी कालीचरण महाराज ने अपने प्रवचन में कहा है कि मोहनदास करमचंद गांधी ने देश को नष्ट कर दिया है। उनके कारण देश बर्बाद हो गया है। कालीचरण महाराज यही नहीं रुके बल्कि लगे हाथ उन्होंने नाथूराम गोडसे की तारीफ भी कर दी। उन्होंने कहा कि वो नाथूराम गोडसे को सलाम करते है जिन्होंने महात्मा गांधी की हत्या की। गांधी को मार कर नाथूराम गोडसे ने देश और हिंदुत्व दोनों की रक्षा की। उन्होंने आगे कहा कि इस्लाम का उद्देश्य राजनीति के माध्यम से राष्ट्र पर कब्जा करना है।

सबसे बड़ी बात यह है कि इस तथाकथित धर्म संसद में कांग्रेस के एक नेता भी मौजूद थे। राजधानी रायपुर स्थित दूधाधारी मठ के महन्थ और कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाले रामसुंदर दास भी मौजूद थे। हालांकि उन्होंने स्वामी कालीचरण की इस अपमानजनक भाषा का विरोध किया औऱ मंच का बहिष्कार भी किया। कालीचरण महाराज की आलोचना करते हुए वो मंच से उतर गए।

खबर है कि रायपुर की पुलिस ने महात्मा गांधी के खिलाफ ‘अपमानजनक’ टिप्पणी करने और उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे की सराहना करने के आरोप में कालीचरण महाराज के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। दरअसल, पुलिस ने यह करवाई रायपुर के पूर्व मेयर प्रमोद दुबे की शिकायत पर की है। उनमें खिलाफ टिकरापारा थाने में मामला दर्ज कर लिया है। बाद में यह मामला तूल पकड़ लिया फिर छत्तीसगढ़ के कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकम ने भी देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग की है।

कौन हैं कालीचरण महाराज?

कालीचरण महाराज महाराष्ट्र से है। वो महाराष्ट्र के अकोला के रहने वाले हैं। अभी हाल ही में इनका एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें ये शिव तांडव स्त्रोत गा रहे थे। यह वीडियो रायसेन जिले स्थित भोजपुर शिव मंदिर का बताया जा रहा है। उस वीडियो के वायरल होने के बाद ये चर्चित हुए।

हालांकि ये कोई प्रसिद्ध धर्म गुरू नहीं हैं। लेकिन वीडियो वायरल होने से मिली लोकप्रियता के कारण इन्हें रायपुर में आयोजित धर्म संसद में बुलाया गया था।

अन्य पढ़ें

Share This Post
Have your say!
00

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>