हरीश रावत/ harish rawat

क्या हरीश रावत है कांग्रेस की पहली पसंद : उत्तराखंड चुनाव

उत्तराखंड की चुनावी राजनीति बड़ी रोचक हो चुकी है। कांग्रेस खेमे में मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर अटकलबाजी अपने चरम पर है। ऐसे में सवाल यह है कि अगर राज्य में कांग्रेस की सरकार बनती है तो क्या हरीश रावत मुख्यमंत्री बन सकते हैं?

गौरतलब बात है कि बीजेपी ने अपने मुख्यमंत्री के चेहरे की घोषणा कर चुकी है। मौजूदा मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ही उनके चेहरे हैं। लेकिन कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा नहीं हुई है।

इसबार कांग्रेस में आपसी घमासान है जिसके कारण पार्टी बिना नाम के ही चुनाव लड़ना चाहती है ताकि अंदर के गुटबाजी से बचा जाए।

सबसे बड़ी बात यह है कि उत्तराखंड में कांग्रेस के चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने कई बार अपने आप को मुख्यमंत्री का चेहरा बता चुके हैं।

इस बार उत्तराखंड राज्य में 5वीं विधानसभा के लिए चुनाव है। इससे पहले 2012 में कांग्रेस सत्ता में थी उस समय हरीश रावत मुख्यमंत्री थे। 2017 के चुनाव में भाजपा की सरकार बनी है। खबर है कि अब हरीश रावत पार्टी के अंदर दावा कर रहे हैं कि उनकी पार्टी की सत्ता में वापसी हो जाएगी और वे मुख्यमंत्री बनेंगे। अब देखना यह है कि इनका खुलेआम मुख्यमंत्री की दावेदारी करना पार्टी को कितना रास आ रही है। इनके दावेदार  से पार्टी के अंदर के खेमेबाजी में कितना फर्क पड़ेगा।

हरीश रावत के हाथ में अभी उत्तराखंड कांग्रेस की चुनाव प्रचार समिति का कमान हैं। उन्होंने राहुल गांधी से मांग की है कि विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा के साथ लड़ी जाए। लेकिन हरीश रावत के इस मांग का पार्टी में विरोध भी हो रहा है।  इनके इस मांग के कारण पार्टी के राज्य इकाई में गतिरोध भी बन चुका है।

उत्तराखंड में चुनाव प्रचार दौरान हरीश रावत अक्सर अपनी सरकार के कार्यकाल के दौरान के कार्यों,योजनाओं की चर्चा करते नज़र आ रहे हैं। उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान कहा है कि अगर अगर कांग्रेस की सरकार बनेगी तो वो कौन-कौन सी योजनाओं के लिए काम करेंगे।

हरीश रावत को पार्टी  की ओर से चुनाव प्रचार समिति का अध्यक्ष तो बनाया गया है लेकिन मुख्यमंत्री के प्रत्याशी के रूप में उनके नाम के बारे में अभी तक कुछ भी नहीं कहा गया है। पार्टी का शीर्ष नेतृत्व अभी तक इस संबंध में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं।

राजनीति गलियारों में इस बात की चर्चा है कि उत्तराखंड का यह चुनाव हरीश रावत के जीवन का आख़िरी चुनाव भी हो सकता है। इसलिए वो मुख्यमंत्री पद की दावेदारी बढ़ चढ़कर कर रहे है।

कौन हैं हरीश रावत ?

हरीश सिंह रावत कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं। रावत  साल 2014 से 2017 तक उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे हैं। ये पांच बार संसद सदस्य भी रहे हैं।  15 वीं लोकसभा में मनमोहन सरकार में हरीश रावत जल संसाधन मंत्री भी थे। इसके अतिरिक्त ये संसदीय कार्य मंत्री, कृषि मंत्री, श्रम एवं पर्यावरण मंत्री सहित कई पदों पर रहे हैं।

कभी मुख्यमंत्री बनने की होड़ में शामिल होने के बाद भी नहीं बन पाए थे सीएम

हरीश रावत के राजनीति सफर में कई उतार चढ़ाव देखने को मिला है। साल 2002 और 2012 में  मुख्यमंत्री बनने की चर्चा बड़ी तेज थी लेकिन इसके बावजूद सीएम नहीं बन पाए थे। 2002 में पार्टी हाई कमान ने नारायण दत्त तिवारी को  मुख्यमंत्री बना दिया था जबकि हरीश रावत के नाम की चर्चा बड़ी तेज थी।

Pawan Toon Cartoon

Pawan Toon Cartoon
Pawan Toon Cartoon

Must Read

Leave a Comment

Your email address will not be published.