Home » Blog » रियल लाइफ से लेकर रील लाइफ तक निभा रहे सिंघम की भूमिका निभा रहे ASP दीपक शर्मा

रियल लाइफ से लेकर रील लाइफ तक निभा रहे सिंघम की भूमिका निभा रहे ASP दीपक शर्मा

ASP Deepak Sharma
ASP Deepak Sharma

तिहाड़ जेल में तैनात ASP दीपक शर्मा (ASP Deepak Sharma) अपने रियल लाइफ से लेकर रील लाइफ तक सिंघम की भूमिका निभा रहे हैं। अपने बहुआयामी व्यक्तित्व के कारण दीपक जेलर की कठोर नौकरी करने के साथ-साथ फ़िल्म और ग्लैमर की दुनिया में भी तेजी से शोहरत कमा रहे हैं। दअरसल, 2009 में दीपक शर्मा ने जब जेलर की नौकरी करनी शुरू की तो इनका वजन मात्र 60 kg का ही था। जेलर की नौकरी में, खासकर दिल्ली जैसे महानगरों में जहां पता नहीं अपराधियों से कब मुठभेड़ हो जाए इसका कोई ठिकाना नहीं होता। इसलिए इस काम में दिमाग के साथ-साथ फिटनेस और शरीरिक ताकत की भी बड़ी भूमिका होती है।

निर्भया कांड के दोषियों को फांसी देने के लिए तिहाड़ जेल में कई गयी थी दीपक शर्मा की विशेष तैनाती

ऐसे में 60 kg का वजन होना इन्हें खलने लगा। फिर इन्होंने जिम जॉइन करने निर्णय लिया। पूरे मनोयोग से इन्होंने इतना वर्क आउट किया कि इनका नाम आज देश के चर्चित फिटनेस मॉडल की सूची में शामिल हो गया है। इस क्षेत्र में इन्हें कई पुरस्कारों से नवाजा भी गया है। पिछले तीन सालों से लगातार नेशनल चैंपियन हैं। इसके साथ ही इन्होंने कई ख़िताबें अपने नाम की हैं। इन्हें आल इंडिया सिविल सर्विसेज में गोल्ड मेडलिस्ट,

आयरन मैन ऑफ इंडिया, स्टील मैन ऑफ इंडिया, मिस्टर इंडिया, मिस्टर दिल्ली, दिल्ली श्री, मिस्टर हरियाणा जैसे 15 से अधिक पुरस्कारों से नवाजा गया है।

इसके साथ-साथ दिल्ली पुलिस में भी इनका महत्व बढ़ गया है। डिपार्टमेंट में इन्हें उन कामों को करने के लिए विशेष तौर पर पदस्थापित किया जाता है जिसे करने के लिए अधिक हौसलें और हिम्मत की आवश्यकता होती है। साल 2020 में जब निर्भया के चारों दोषियों को फांसी देनी थी तब इन्हें मंडोली जेल से विशेष तौर पर तिहाड़ जेल पदस्थापित किया गया। निर्भया के दोषियों को फांसी देना बहुत ही संवेदनशील काम था जो इन्हें सौंपी गई। इन्होंने डिपार्टमेंट की ओर से दी गयी जवाबदेही को बखूबी निभाया भी। लगातार 72 घण्टे बिना सोये आरोपियों के बैरक के सामने डटे रहे। चार अपराधियों को एक साथ फांसी देनी थी, इसलिए यह आवश्यक था कि उन चारों को संभाला जाए।

एक तो फिटनेस मॉडल-सा शरीर, ऊपर से पुलिस की खाकी वर्दी और साथ में अभिनय करने की कला

यह निश्चित ही किसी क्रिएटिव इंसान को आकर्षित कर सकता है। इनके पास फ़िल्म और ग्लैमर की दुनिया से जुड़े कामों को करने की लाइन लग गयी। कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने अपने विज्ञापन के लिए दीपक शर्मा को ब्रांड एंबेसडर बनाया तो कई डायरेक्टर ने शॉट फ़िल्म, एल्बम सांग में ऐक्टिंग का प्रस्ताव दिया। दीपक के अभिनय की दुनिया में काम करने की लंबी लिस्ट बन चुकी है। इन्हें डिवाइन न्यूट्रिशन, हंक वॉटर सहित 6 बहुराष्ट्रीय कम्पनियों ने अपना ब्रांड एम्बेसडर बनाया। इसके बाद ऐक्शन की दुनिया में इनके नाम की चर्चा और होने लगी। फिर इन्हें मैक्स प्लेयर पर एक शॉट फ़िल्म ‘अतिरिक्त’ में काम करने का ऑफर आया। इसके बाद इन्होंने दीनार मूवी में भी काम किया। इन्होंने एक हॉरर फिल्म ‘इतेया’ में भी काम किया है। अभी सोलो गाने का एक एल्बम लॉच किया गया है जिसका नाम है ‘गलती’। इसमें इनकी दमदार अभिनय दिख रहा है।

‘गलती’ एल्बम में इनकी दमदार अभिनय है। इस गाने में बॉलीवुड एक्टर साहिल खान लीड भूमिका में है। आने वाले दिनों में ये डिस्कवरी चैनल के एक रियलिटी शो में दिखाई देने वाले है जो खतरों के खिलाड़ी आदि शो की तरह होने की संभावना है।

सबसे बड़ी बात यह है कि जब एक रियल का पुलिस अधिकारी स्क्रीन पर वर्दी के रुतबा को प्रदर्शित करता है तो यह दर्शकों के दिल को छू जाता है।  दीपक के अभिनय में फिल्मी सितारों के अभिनय की तरह कोई बनावट नहीं दिखती। आलम यह है कि दीपक कुमार का व्यक्तित्व ग्लैमर से लबालब हो चुका है। दिल्ली पुलिस को जहां कही भी सिंघम वाली छवि के अधिकारी की जरूरत होती है तो दीपक शर्मा का नाम सबसे पहले आता है। आज दीपक दिल्ली पुलिस के पोस्टर बॉय की तरह हैं, दूसरे पुलिसकर्मियों के लिए आदर्श बन चुके हैं क्योंकि इन्होंने जेलर की नौकरी करते हुए जो शोहरत कमाई है वह हर किसी के बस की बात नहीं है।

दीपक शर्मा का इंस्टाग्राम अकॉउंट

दीपक शर्मा की उम्र कितनी है ?

दीपक शर्मा की उम्र 32 वर्ष है।

ASP दीपक शर्मा की पोस्ट क्या है?

दीपक शर्मा ASP हैं और अभी तिहाड़ जेल में सहायक अधीक्षक के पोस्ट पर कार्यरत है

Learn More

Aaj Ka Cartoon By Pawan Toon

Share This Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>