Home » Blog » अब भोज-भात पर पड़ेगा प्रभाव

अब भोज-भात पर पड़ेगा प्रभाव

bhoj bhaat
bhoj bhaat

राज्य सरकार ने थर्मोकोल से बने सामग्री जैसे पत्तल, कटोरी, ग्लास आदि की बिक्री पर लगाने जा रही है प्रतिबंध. अभी शादी का सीजन चल रहा है। बगैर भोज-भात के तो शादी सपन्न ही नहीं होती है। प्रायः शादियों में थर्मोकोल से बने पत्तल, कटोरी, ग्लास का ही उपयोग किया जाता है। क्योंकि यह अपेक्षाकृत मजबूत औऱ सुदर होता है। लेकिन आने वाले दिनों में इसके उपयोग पर प्रतिबंध लगने की तैयारी हो रही है। बिहार सरकार ने थर्मोकोल के पत्तल, कटोरी, ग्लास आदि की बिक्री, इसके उत्पादन, परिवहन तथा उपयोग पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है।

थर्मोकोल की बिक्री पर लगने जा रहा प्रतिबंध

सबसे बडी बात यह है कि थर्मोकोल उत्पादों पर यह प्रतिबंध इसी महीने के 14 दिसम्बर के मध्य रात्रि से लागू हो रहा है। सरकार ने यह स्पष्ट किया है कि इसके बेचने वाले, खरीदने वाले इसको ले जाने वाले सभी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी। अगर कोई दुकानदार या उपभोक्ता इसका उल्लंघन करते पकड़े जाते हैं तो उनके खिलाफ क़ानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बिहार प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड ने जारी किया आदेश

थर्मोकोल के उपयोग पर प्रतिबंध बिहार सरकार के बिहार प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से जारी किया गया है। पर्यावरण विभाग की ओर से जारी अधिसूचना में स्पष्ट किया गया है कि थर्मोकोल सम्बंधित नियमों के उल्लंघन करने पर पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा 15 के तहत कार्रवाई की जाएगी। इस प्रतिबंध के तहत 5 साल की जेल या 1 लाख रुपए तक का जुर्माना हो सकता है अथवा दोनों तरह की सजा का प्रावधान भी लागू हो सकता है।

केंद्र सरकार भी लगा चुकी है प्रतिबंध

केंद्र सरकार ने थर्मोकोल से बने सामग्री तथा एकल उपयोग में आने वाली वस्तुओं पर जुलाई 2022 से पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया है। इस प्रतिबंध की चर्चा 12 अगस्त 2021 को प्रकाशित गजट ऑफ इंडिया में की गई है। हालांकि बिहार सरकार ने इस प्रतिबंध को पहले ही लागू कर दिया है।

कई व्यावसायिक संगठनों ने किया विरोध प्रदर्शन

थर्मोकोल के अतिरिक्त केले के पत्ते या जंगली पत्तों से बने पत्तल, कटोरी, ग्लास का उपयोग होता है। होटलों में तो स्टील, फाईबर आदि से बने प्लेट के उपयोग होता है। राज्य सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाने पर इस व्यवसाय से जुड़े व्यापारियों में गहरी निराशा है। व्यापारियों के कई संगठनों ने तो पटना में इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया गया है।

अन्य लेख पढ़ें

Pawan Toon Cartoon

Share This Post
Have your say!
00

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>