Home » Blog » ASMR क्या है? | Autonomous Sensory Meridian Response kya hai ?

ASMR क्या है? | Autonomous Sensory Meridian Response kya hai ?

ASMR क्या है?
ASMR क्या है?

Autonomous Sensory Meridian Response (ASMR) एक हलकी झुनझुनी, एक ऐसी शांत संवेदना को कहते हैं जो खोपड़ी से शुरू होकर गर्दन और ऊपरी रीढ़ की हड्डी के पीछे नीचे जाती है। इससे एक आनंद का अनुभव होता है।मगर हर कोई हर कोई ASMR का अनुभव नहीं करता है। कुछ लोग व्यक्तिगत ध्यान लगाते हैं। या कुछ ऑडियो या दृश्य देख कर इसका अनुभव करते हैं।

ASMR क्या है?

ASMR का अनुभव हर कोई नहीं कर पाता है ये ठीक वैसा ही है जैसे संगीत सुनने पर हर किसी को ठंड या गर्मी नहीं लगती, हर कोई हँसने या रोने नहीं लगता बिलकुल वैसे ही हर कोई को ASMR का अनुभव नहीं कर सकता। अब तक इस पर पर्याप्त शोध नहीं हुआ है। न ये अनुमान लगाया जा सका है के जनसंख्या का कितना प्रतिशत ASMR का अनुभव करता है । ASMR अभी एक अनसुलझी पहेली की ही तरह है। जिन लोगों को इसका अनुभव हुआ है वे सुखद और शांत महसूस करते हैं।

ASMR का अनुभव कैसे होता है?

क्या आप को भी ASMR का अनुभव होता है इसको जाँचने के लिए सबसे आसान तरीका यह है की आप खुद पर ग़ौर करें के आप को किस बात से क्या महसूस होता है। अगर आपको किसी आवाज़ को सुनकर ठंड लगती है, आपके शरीर में कंपकंपी होती है या आपका दिमाग़ शांत होने लगता है और आपको नींद आती है ,आप कुछ सुनते, देखते, सूंघते या स्पर्श करते समय एक सुखद एहसास से गुज़रते हैं तो आप शायद ASMR का अनुभव करते हैं।

ASMR पर नवीनतम शोध

कुछ ऐसे लोग जिन्हें ASMR का अनुभव हुआ है उन पर शेफ़ील्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन किया है। उन्हों ने यह मापने का प्रयास किया के ASMR का उनके शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है जो इसका अनुभव करते हैं।
शोधकर्ताओं ने पाया के इसका अनुभव करने वाले ज़्यादा शांत थे। उनका अपने काम पर पूरा फोकस था। वे कुशल थे।उनका स्वास्थ अच्छा था।आमलोगों के मुक़ाबले में वे कम बीमार पड़ते थे।
अध्ययन करने वालों मैं गुइलिया पोएरियो, पीएच.डी., एमएससी भी हैं वह बताती हैं की ” जो लोग इसका अनुभव नहीं करते हैं उन्हें इस पर विश्वास करना वाकई मुश्किल होता है। उन्हें लगता है कि यह किसी भी तरह की अजीब या डरावनी बात है या इसमें कोई वास्तविकता नहीं है।”

ASMR कितने प्रकार के होते हैं ?

ASMR का अनुभव किसी एक प्रकार से नहीं होता है। कुछ अनुभूति तो हैरत मैं डाल देती है जैसे ,जूते की दुकान पर अपने पैरों को मापना, किसी के चेहरे पर मेकअप लगाना, अपने बालों को ब्रश करना या कटवाना, किसी को ध्यान से कागज की एक शीट को मोड़ते हुए देखना, किसी होटल में चेक किया जाना शामिल है।एक महिला को पुलिस की गाड़ी के सायरन की आवाज़ से ASMR की अनुभूति होती थी। वह इस अनुभव को बार बार हासिल करने के लिए दुकानों मैं छोटी मोती चोरियां करके पकड़ा जाती फिर पुलिस की गाड़ी मैं बैठ कर इसका अनुभव करती। कुछ लोग दुकानों में मामूली चीज़ों को चुरा कर भी इसका अनुभव करते हैं।

मगर ज़्यादा तर ASMR की उत्तेजना दृष्टि, या ख़ास स्पर्श या किसी ख़ास ध्वनि से होती है। बारिश की आवाज़ या म्यूजिक की आवाज़ से भी ASMR हासिल होता है। ये बिलकुल ऑर्गेज़्म जैसी ही अनुभूति है। किसी को ASMR ज़्यादा तीव्रता के साथ महसूस होता है और किसी को कम। हर किसी का अलग ASMR का ट्रिगर होता है।

ASMR का अभ्यास कैसे करें?

ASMR को अनुभव करने का सबसे आसान तरीक़ा आवाज़ के द्वारा है। आप बारिश की आवाज़ को सुनकर बहुत आसानी से ASMR का अनुभव कर सकते हैं। YouTube के चैनल Miracle Motivation ASMR पर ऐसी कई video मौजूद हैं जिन्हें सुनकर आप भी ASMR का अनुभव कर सकते हैं

ASMR का क्या प्रभाव पड़ता है ?

ASMR के प्रभाव से दमाग़ शांत होता है डिप्रेशन के मरीज़ों को अब ASMR थेरोपी की तरह दी जाने लगी है इसका बहुत अच्छा रिजल्ट मिल रहा है।इससे अनिद्रा भी दूर किया जा सकता है। इससे शरीर मैं झुनझुनी भी पैदा होती है और रीढ़ की हड्डी में सनसनाहट महसूस होता है। यह शरीर को भी अच्छा रखता है। अनिद्रा, चिंता और अवसाद से निपटने में बेहद सक्षम है।

अपने ASMR ट्रिगर को कैसे खोजें?

ASMR ट्रिगर हर किसी के लिए अलग अलग है यह ऐसा ही है जैसे आपको अपने ताले के लिए कुंजी तलाश करना। जब आप चीज़ों को देखते, सुनते या छूते हैं तो आप कैसा महसूस करते हैं, इस पर ध्यान दें। यदि आप किसी भी चीज़ से सुखद अनुभूति महसूस करते हैं, आपका दिमाग़ तनाव रहित होने लगता है तो संभवतः वही आपका ASMR ट्रिगर है। ऑनलाइन बहुत सारे ऐसे वीडियो हैं जो ट्रिगर की स्थितियों, स्थलों और ध्वनियों के बारे में बताते हैं।आप उनसे भी फ़ायदा उठा सकते हैं।

बहुत सारे लोगों को यह पता ही नहीं है के जिन संवेदनाओं का उन्हें लंबे समय से अनुभव हो रहा है उसका एक नाम है और यह कि उन जैसे लोगों का एक समुदाय भी है जो इसका अनुभव करते हैं और शेयर भी करते हैं । ASMR अब तेज़ी से प्रख्यात हो रहा है लोग ASMR के बारे में ऑनलाइन सीखते हैं।हालाँकि अभी तक इस पर बहुत ज़्यादा शोध नहीं हुआ है न ये इलाज के रूप में आम है।

शेफ़ील्ड यूनिवर्सिटी द्वारा किया गया अध्ययन इस लिए महत्वपूर्ण था कि इसने शारीरिक डेटा के माध्यम से ASMR और इसके प्रभावों के बारे में वास्तविक रिपोर्ट बनाई। मगर यह सिर्फ अभी शुरुआत भर है। अभी इसके बारे में बहुत कुछ जानना बाक़ी है।

Learn More

Share This Post
Have your say!
00

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>