Month: March 2021

'वीमेन टू राइड'

आत्मबल से दूरियां लांघती बेटियां

घर की चौखट से घिरी सिसकती बेटियों से भले ही पुरुषवाद के अहंकार को संतुष्ट किया जा सके लेकिन जब उनके आत्मबल पर भरोसा कर उन्हें आगे बढ़ने का मौका दिया जाता है तो वो दुनिया भर की दूरियों को लांघ देती है। पुरुषों की दुनिया में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुकी महिलाएं किसी …

आत्मबल से दूरियां लांघती बेटियां Read More »

गरीबों के बीच पोषण और शिक्षा के प्रति सजगता ही मानवता

आज भी गरीबों के लिए उचित पोषण और शिक्षा स्वप्न के समान है। इस समस्या से निजात के लिए सामाजिक पहल आवश्यक है। हर सामर्थ्यवान व्यक्ति को गरीबो के लिए आगे बढ़ना ही होगा तभी सटीक तरीके से गरीबी का मुकाबला किया जा सकता है। आज पटना में ‘युवा क्रांति रोटी बैंक’ नाम की एक …

गरीबों के बीच पोषण और शिक्षा के प्रति सजगता ही मानवता Read More »

गुवाहाटी की चर्चित एनिमल एक्टिविस्ट उर्मिमाला दास

लावारिस पशुओं से अपनापन ही इंसानियत

लावारिस पशुओं से अपनापन को ही इंसानियत मानती हैं उर्मिमाला दास मानव प्रकृति में सबसे सक्षम प्राणी है। लेकिन वह अपनी सक्षमता का सबसे ज्यादा उपयोग दूसरे प्राणियों के शोषण और दोहन के लिए ही करती है। गुवाहाटी की उर्मिमाला दास लावारिस जानवरों की सुरक्षा और पोषण के लिए काम करती हैं। लेकिन यह काम किसी संघर्ष …

लावारिस पशुओं से अपनापन ही इंसानियत Read More »

अपना जीवन अपना अधिकार

अपना जीवन अपना अधिकार

जो हमसे दुर्बल है उसका अपने उपयोग के लिए शोषण करना अमानवीय हरकत है। जब पुरुष औरतों को दुर्बल मानते हैं तो उसका शोषण करते हैं, जब जानवरों को दुर्बल मानते हैं तो अपने स्वाद के लिए उसे नोच-नोच कर खा जाते हैं। दूसरों का शोषण ही पुरुषार्थ बन जाता है। औरतों के साथ अजीब …

अपना जीवन अपना अधिकार Read More »

औरतों को समझने के दोहरे मापदंड

औरतों को समझने के दोहरे मापदंड

समाज में औरतों को समझने के दो ही मापदंड है। पहली ‘नेक औरत’ तो दूसरी ‘बदचलन औरत’। इसके अतिरिक्त लोगों के पास औरतों को समझने का कोई और सर्वमान्य तरीका है ही नहीं। वास्तव में, नेक औरत और बदचलन औरत की अवधारणा औरतों की यौनिक स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने की सामाजिक पहल का परिणाम है। …

औरतों को समझने के दोहरे मापदंड Read More »

वाराणसी के पनिहरी गांव में हस्त कला प्रदर्शनी का आयोजन

वाराणसी के पनिहरी गांव में हस्त कला प्रदर्शनी का आयोजन

वाराणसी।अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के शुभ अवसर पर प्रगति-शिला फाउंडेशन की तरफ से वाराणसी में चौबेपुर के पनिहरी गांव में महिलाओं को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से हस्त कला-प्रदर्शनी का आयोजन किया गया,जिसमें ग्रामीण महिलाओं के द्वारा निर्मित हस्तकला की कई प्रस्तुतियां की गई।  संस्था की अध्यक्ष प्रीति जायसवाल द्वारा महिलाओं को तुसली का पौधा एवं …

वाराणसी के पनिहरी गांव में हस्त कला प्रदर्शनी का आयोजन Read More »

12 लावारिस कुत्तों के लिए 5,300 KM की दूरी सड़क मार्ग से तय किया

हम में से बहुत लोगों के लिए जीवन जीने का मतलब परिवार की खुशहाली होती है। नौकरी-बिजनेस के जरिये पैसे कमाना और फिर खुशहाल या सफल जीवन जीना! जीवन जीने के इस तरीके में प्रकृति के प्रति मानव का कर्तव्य गौण हो जाता है। प्रकृति में हमारे ही तरह बसे पशु-पक्षियों के प्रति भी मानव …

12 लावारिस कुत्तों के लिए 5,300 KM की दूरी सड़क मार्ग से तय किया Read More »

भाषागत दूरी को सहज की खत्म कर देती है भक्ति

मनुष्य अपने जीवन की सभी गुत्थियों को अपनी मेहनत के बल पर सुलझाना चाहता है। यह स्वाभाविक भी है क्योंकि मनुष्य में कर्म करने का गुण पाया जाता है। लेकिन हर किसी के जीवन में कुछ ऐसे मोड़ आ जाता है जब उसकी खुद की समझ, मेहनत धरी की धरी रह जाती है और वह …

भाषागत दूरी को सहज की खत्म कर देती है भक्ति Read More »