अधिकार ही सम्मान है। (सांकेतिक चित्र)

शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को सम्मानित करने का ढोंग करना बन्द करें सरकार : प्रो. गौतम

 भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस पर मनाया जाने वाला शिक्षक दिवस पर बिहार सरकार द्वारा शिक्षकों को सम्मानित करने का ढोंग करना बन्द करना चाहिए ।            

बिहार राज्य संबद्ध डिग्री महाविद्यालय शिक्षक शिक्षकेत्तर कर्मचारी महासंघ ( फैक्टनेब )  के मीडिया प्रभारी प्रो अरुण गौतम ने कहा कि भारत का हर नागरिक अपने तमाम मार्गदर्शक शिक्षकों का भरपूर सम्मान और स्नेह देते हैं । भारत में एक मजबूत परम्परा कायम है । लेकिन बिहार में इस परम्परा की सिर्फ खानापूर्ति की जाती है ।           

प्रो  गौतम ने कहा कि एक तरफ बिहार में लगभग एक लाख शिक्षाकर्मी 42 वर्षो से शिक्षा के क्षेत्र में अपना योगदान  बिना वेतन के दें रहें हैं  तो दूसरी तरफ राज्य के मुख्यमंत्री सार्वजनिक रूप से शिक्षकों को अपमानित करते नजर आते हैं और उनके मंत्री,  विधायक विधानसभा एवं विधान परिषद में आधिकारिक रूप से शिक्षकों को अपमानित करने का व्यक्तव्य देते दिख जाते हैं । ऐसे में शिक्षकों को सम्मानित करने का ढोंग करने से राज्य सरकार को परहेज़ करना चाहिए । 

प्रो. गौतम ने सरकार को सलाह दिया है कि अगर सही मायने में सरकार शिक्षकों को सम्मानित करना चाहती है तो शिक्षाकर्मियों का आठ वर्षों का बकाया अनुदान राशि का एकमुश्त भुगतान करने की व्यवस्था करें और गैर शैक्षणिक कार्य से शिक्षकों को मुक्त किया जाये ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *