“एक कहानी ऐसी भी : चन्द्रिका योल्मो लामा”

इंसान जानवरों का उपयोग तो करता है पर उसके साथ इंसानियत भरा संबंध रखने से हिचकिचाता है। मानवीय मूल्य हमें बेसहारा जानवरों के लिए जीवन जीना भी सिखाती हैं। हम अक्सर गली के कुत्तों पर पत्थर फेंकने की सोचते हैं लेकिन उन्हें दो रोटी देने से कतराते हैं। आप को जानकर हैरत होगी कि हमारे इस मतलबी दुनिया में कुछ ऐसे भी लोग है जो बेजुबान, बेसहारा जानवरों की देखभाल अपने परिजनों की भाँति करते है और उनके जीवन की सुरक्षित करने के लिए ऐड़ी चोटी का प्रयास भी करते हैं।

हम बात कर रहे हैं एक ऐसे ही जीवट की बनी महिला चन्द्रिका योल्मो लामा की जिनका पशुओं से लगाव अपने आप में अनोखा है और आश्चर्य करने वाला भी।

श्रीमती लामा एक सैन्य अधिकारी की पत्नी है। अगर ये चाहती तो सुख सुविधा संपन्न जीवन जी सकती है। लेकिन इनके जानवरों के प्रति लगाव का आलम यह है कि इन्होंने हाई फाई सोसायटी को छोड़कर एक किराये के मकान में रखने का निर्णय लिया । दरअसल, उस सोसायटी में बड़े और रसूखदार लोग रहते हैं जिन्हें गली के कुत्ते का रखना गवारा न लगा। इसलिए इन्हें वो इलाका छोड़ना पड़ा औऱ किराये के मकान में गली के कुत्तों के देखभाल के बीच रहने का निश्चय किया। 

आपको इनके जीवन से जुड़ी एक घटना जानकर हैरत तो होगी ही लेकिन वो घटना आप सभी के मन में जानवरों के प्रति लगाव और प्रेम पैदा कर सकती हैं। उन दिनों श्रीमती चन्द्रिका योल्मो लामा गोवा में रहती थी। छुट्टियां बिताने सिलीगुड़ी आयी। ये छुट्टियां बिताने या घूमने जिस शहर में जाती हैं तो वहां के पर्यटक स्थलों पर बाद में जाती है पहले शहर के उनलोगों के पास जाती हैं जो जानवरों की देख भाल कर रहे होते हैं। सिलीगुड़ी में इनकी मुलाकात एक ऐसे ही लड़की से हुई जिनका नाम है  प्रिया रुद्र।  प्रिया रुद्र लावारिस कुत्तों की देख भाल करने के लिए शेल्टर चलाती हैं। यहां इनकी नज़र एक ऐसे कुत्ते पर पड़ी जिसका दो पैर ट्रेन एक्सीडेंट  की वजह से टूट चुका था, वह अपने इन दोनों जख्मी पैरों को घसीट कर चलता था। इनसे उसका दुख देखा नहीं गया। अपनी छुट्टियां रद्दकर श्रीमती लामा तुरंत गोवा लौट

गोवा लौट कर उन्होंने ऐसे पशु चिकित्सक की तलाश शुरू कर दी जो इस कुत्ते के लिए कृत्रिम पैर बना सके।

इन्हें पता चला कि इस तरह का एक चिकित्सक भोपाल में रहता है तो ये अकेली ही तुरंत गोवा से भोपाल आयी। यहां आने के बाद पता चला कि बगैर उस जख्मी कुत्ते को यहां लाये कृत्रिम पैर नहीं बन सकता है तो ये मासूस हो गयी क्योंकि इस नाजुक हालत में उसे सिलीगुड़ी से भोपाल लाना सम्भव नहीं था।

हालांकि श्रीमती चन्द्रिका योल्मो लामा हार नहीं मानी। उन्होंने इस कुत्ते को गोद लेने के लिए कैम्पेन शुरू किया। इन्होंने कश्मीर से लेकर केरल तक के कई लोगों से संपर्क किया। कश्मीर में ऐनिमल वेलफेयर से जुड़े सन्ना बंडे सिद्दीकी तथा सोनम वर्मा ने कनाडा टोरंटो के एक व्यक्ति से सम्पर्क साधा जो इस कुत्ते को गोद लेने के लिए तैयार हुआ। इस कुत्ते को सिलीगुड़ी से दिल्ली लाया गया ताकि कनाडा भेजने की सभी कानूनी प्रक्रिया पूरी की जा सके। इसी बीच लॉक डाउन लग गया। यह अवधि चुनौती से भरा था। यह कुत्ता बीमार पड़ गया। जैसे तैसे इन्होंने इसका इलाज करवाया। इन्होंने इस कुत्ते की लॉक डाउन अवधि तक पूरी तरह से देख भाल की। अभी कुछ ही महीने पहले उसे कनाडा भेजा गया है।

श्रीमती लामा जी को दो दिन पहले कनाडा के एडॉप्टर ने उस कुत्ते की वीडियो भेजा जिसमे वह अपने दो नकली पैरों के सहारे आसानी से दौड़ रहा है। श्रीमती लामा जी की आंखे भर आयी। आखिर उनका निःस्वार्थ मेहनत रंग लाया। लेकिन उनके जेहन में आज भी एक सवाल है कि हम आखिर इन जानवरों के प्रति इतना परायेपन का व्यवहार क्यों रखते है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि श्री मती चन्द्रिका योल्मो लामा ने अब तक सैकड़ो लावारिस कुत्तों को पाला है, उनके चिकित्सा और भोजन का खयाल रखा है और वही भी बिना किसी सरकारी सहायता के।

44 Replies to ““एक कहानी ऐसी भी : चन्द्रिका योल्मो लामा””

    1. God bless u ma’am for the wonderful work you are doing. You are an inspiration. Thank you for always motivating me to do something for the voiceless.

  1. This is story about determination and persistence.where there is will there is way.Chandrika is picture of compassion,love ,devotion and dedication.We have been discussing many issues concerning animal welfare,wildlife and I salute her hardwork and sincerity.

  2. प्रेम का असल प्रतीक हैं आप Chandrika जी।
    बहौत बेहतरीन इन्सान हैं आप। 🙏
    #NishantVarma

  3. Mrs. Lama is truly ambassador of Humanity in a wider sense, soft approach for every creature is the essence of being human. BEST WISHES

  4. I’m so proud of her,I came to meet her in a school in Jabalpur .She was our principal with a positive attitude ,She had 6-7 rescued fur babies. I asked her how she managed to look after ,she had helpers but then also lots to do .She is in Siliguri now there also she is still working for them .May God bless her with more strength and help the babies.

  5. One of the amazing persons I’ve ever known. Not only is she a dogaholic but also a mother for those homeless & helpless dogs coming her way . She’s got such a prize within her.

  6. आपके द्वरा किया गया हर कार्य सराहनीय होता है, आप हमेशा से निः स्वार्थ भाव से सेवा करती है, आपसे पूरी दुनिया को सीख मिलता है सिर्फ इंसानो से नही जानवरो से भी प्यार करना चाहिए ,उनके दर्द को महसूस करना चाहिए।🙏🙏

  7. एक बेहतरीन शख्सियत जो ना केवल पशु-प्रेमी हैं अपितु मानव हित के लिए भी निःस्वार्थ सेवारत रहती हैं। ये मैं केवल कहानी के माध्यम से ही नही बल्कि अपने अनुभवों के आधार पर बता रहा हूँ…. इस ब्लागिंग साइट के कर्ता-धर्ता को भी मेरी तरफ से शुभाशीष जिन्होंने ब्लागिंग के माध्यम से इन सभी हस्तियों को सबके सामने प्रस्तुत किया।

  8. Thats amazing ma’am. Without any support you are doing such a noble thing. As earlier said your are voice for the voiceless 🙏

  9. You’re truly an amazing personality with a golden heart…your love for strays is beyond appreciation…I wish you all the good luck for your future endeavors….

  10. Chandrika ma’am I am proud of you and you always make me feel proud for your continuous efforts for the animals and helping the voiceless…. Keep up the high spirit and I am always with you in any kind of support you need. 😃🙏

  11. If you love God than love the creation of God. Animals also are creature of God. Love them, care for them and in return God will love you and bless you as this is the selfless love.
    Madam you are angel for these helpless and God bless you always.

  12. Your noble work and your love for them alwys inspires me…there is no words to describe Chandrika…You are God to them.❤

  13. There are no words to describe your noble deeds. God will bless you in abundance. I salute you Chandrika. Your love for these bejuban creatures shows in your good deeds for them

  14. Amazing dedicated bold animal
    Lover I have ever met!!And it takes guts to stand against all those people who try to hurt/harm animals

  15. जिंदादिल इंसान❣️ इस ब्लॉक के माध्यम से एक अंश मात्र परिचय कराने का सफल प्रयास🙏 मैम आपने जीव सेवा में जो अपना योगदान दिया हैं उसे शब्दों में नही पिरोया जा सकता… इन जीवों को इसी तरह आपका आशीर्वाद मिलता रहे❤️🙏🌺💐

  16. So so proud of you Chandrika ma’am ..I always say that you are such an amazing person who gets connect with some ,fills positive in othets life also …I was not a kind of animal lover but spending time with you and seeing your concern for them ..melted my heart to love animals … always love you for all your good deeds…bless to have you in my life ..keep growing ma’am.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *